Category: Culture

कुल्लू का मोहक लोक-नृत्य: नाटी

नाटी का जो वर्तमान प्रचलित रूप है, इसे ‘सराजी नाटी’ कहते हैं। नाटी का सम्बन्ध भीतरी सराज से है। इस का उद्भव भले ही कहीं हुआ हो परन्तु यह पल्लवित, पुष्पित और विकसित भीतरी सराज में ही हुई है। नाटी को यदि गीत अर्थात् शब्द यदि कुल्लू ने दिया है तो स्वर, ताल और गति भीतरी सराज से मिली है। आज भी यह क्षेत्र नाटी पर अपना प्रभाव और अधिकार बनाये हुए है। नाटी की मौलिकता और कला का उत्कर्ष यहीं सुरक्षित है।

कुल्लू के घटना और श्रम प्रधान गीत

जेठ-आषाढ़ में जब खेतों में धान रोपे जाते हैं तो घुटनों तक खेतों में पानी होता है। धान की पौध एक छोटी क्यारी से उखाड़ कर बड़े-बड़े खेतों में पुन: रोपी जाती है। रोपने के श्रम-प्रधान काम की थकावट को गीत गा-गा कर दूर किया जाता है। ओबू और ओबी किसी पुराने जमाने में प्रेमी-प्रेमिका हुए हैं, जिनका प्यार इसी परिवेश में पनपा था और अब उनके प्यार की याद लोकगीत में ताज़ा है। धान रोपने के कार्य को ‛रूहणी’ कहते हैं।

The Cleveland Surya & Its Kulu Connection

The late Dr. Vishwa Chandra Ohri¹ remarked that the image’s characteristics and several other details deviate from Kashmiri craftsmanship. He compared the image’s facial sculpting to that of the wooden Surya of Gajan (Kulu), and its crown to that of the Surya image from Bajaura (Kulu).

Malana and the Akbar-Jamlu Legend

I do not know if any one has suggested that this language was the original tongue of the Kanet race, or of the indigenous stock from which they were at least partly sprung. But it seems a plausible theory that all the Kanets of Lahul, of Kulu and of Kanawar, which is called Kuno (the same word as Kulu) by the Tibetans to this day, once spoke a common original language, one branch of which is still called Kanashi or Kanaishi.

Kulu Customs (1910)

A commentary on the behaviour and customs of the Kullu people in the first decade of the twentieth century. The article is not only enjoyable to read, but it also contains significant ethnological and historical interest.

कुल्वी रीति-रिवाज़ (1910)

मकान बनाने के लिए पत्थरों की चिनाई की जाती है जिनमें नियमित अंतराल पर केळू (देवदार) लकड़ी के शहतीर लगाए जाते हैं। दीवार में लंबाई और आड़े में पीछे से आगे लगे शहतीर या ‛चेउळ’ लोहे या लकड़ी के पेंच से जोड़े जाते हैं। इस तरह पूरी दीवार ऐसे बंधी रहती है मानो एक ही शीलाखण्ड हो और एक तेज़ भूकंप को झेल सकती है। कमोबेश इसी कारण भवन-निर्माण की यह विधि पहले-पहल अपनाई गई होगी

Kahika | A Himalayan Festival of Purification

The term chidrā, used for the purification ritual in Kayika, finds its possible origin in the OIA chidra, meaning ‘hole’ or ‛weak point’ as a noun and ‘perforated’ or ‘torn asunder’ as an adjective. The exact meaning of chidrā, however, varies depending on the context in which it is employed: ‘release’ from transgression (pāp), ritual or social, ‘removal’ of evil power of deity (dosh-khot), ‘cutting’ of spells and bad omens (kari-shrapni), and so on.

Deuli Institution of Kulu | A Brief Introduction

The origin behind the worship of these village deities is lost in time. Oral religious traditions (such as bhārthā or ganāi, lit. news) and folklore connected with them gives a rough idea of how things may have been, but proper research is lacking in this regard. Many of the deities are nowadays associated with gods and goddesses of the Hindu pantheon. It is obvious that Hinduism must have arrived in Kulu in the distant past and Buddhism flourished here as well. However, the religion at present of the Kulu people living in its villages, termed as Hinduism, in actuality is an amalgamation of different religious ideas and customs having the aboriginal nature worship at its core.

error: This content is protected.