Tharah Kardu Blog

Chronicles of Governance: Kullu’s Administrative Symphony through the Ages

The pre-colonial administration of Kulu was broken up into provinces called waziris. A waziri was divided into ‘kothis’, each of which further had two to five subdivisions called ‘phatis’. And then depending on the population density, each ‘phati’ had up to twenty separate villages within it.

कुल्लू का मोहक लोक-नृत्य: नाटी

नाटी का जो वर्तमान प्रचलित रूप है, इसे ‘सराजी नाटी’ कहते हैं। नाटी का सम्बन्ध भीतरी सराज से है। इस का उद्भव भले ही कहीं हुआ हो परन्तु यह पल्लवित, पुष्पित और विकसित भीतरी सराज में ही हुई है। नाटी को यदि गीत अर्थात् शब्द यदि कुल्लू ने दिया है तो स्वर, ताल और गति भीतरी सराज से मिली है। आज भी यह क्षेत्र नाटी पर अपना प्रभाव और अधिकार बनाये हुए है। नाटी की मौलिकता और कला का उत्कर्ष यहीं सुरक्षित है।

कुल्लू के घटना और श्रम प्रधान गीत

जेठ-आषाढ़ में जब खेतों में धान रोपे जाते हैं तो घुटनों तक खेतों में पानी होता है। धान की पौध एक छोटी क्यारी से उखाड़ कर बड़े-बड़े खेतों में पुन: रोपी जाती है। रोपने के श्रम-प्रधान काम की थकावट को गीत गा-गा कर दूर किया जाता है। ओबू और ओबी किसी पुराने जमाने में प्रेमी-प्रेमिका हुए हैं, जिनका प्यार इसी परिवेश में पनपा था और अब उनके प्यार की याद लोकगीत में ताज़ा है। धान रोपने के कार्य को ‛रूहणी’ कहते हैं।

Raksasa Lore in the Kulu Valley

In this text the author lists a number of encounters between Raksasas, gods, and men, as well as documents some ancient and contemporary incidents in the upper Beas valley in Kulu.

Basheshar Mahadev Temple, Bajaura (Kullu)

Basheshar Mahadev temple was built in the ninth century A.D., under the patronage of the Gurjara-Pratiharas. Probably Nagabhatta II or Bhoja was its builder. Likely, after the fall of Yasovarman’s house the last artists of his court seem to have found employment with those Pratiharas with whom a new phase of medieval art sets in Northern India and certainly the Bāsheśar Mahādeva temple is one of its most impressive proof.

Journey to Kulu in the Himalayas (1893)

From Bajaura a pretty path planted with apricot trees leads along the right bank of the Bias via Shamsi to Sultanpur. At Shamsi there are several stones on the left side of the road and in front of the door of a hut there is a Buddhist wheel carved on one of them. The stones are similar to those found in Nagar, but no one can say anything about them.

error: This content is protected.